RSS

Monthly Archives: February 2021

काश बदनाम हो जायें

Its better to find a person who change your life significantly intstead of finding a preson who will change your relationship status

मेरी भी एक दुआ कुबूल हो जाये
फिर राह में उनसे मुलाकात हो जाये।

सूरज बैठा है निगरानी में उनके
उनके गली में पहुँचूँ तो रात हो जाये।

जो ख़त उनको लिखा था जज़्बातों से
पहुंचे उन तक तो शायद शुरुआत हो जाये।

छत पर आए वो जुल्फें लहराते
नज़रें मिले उनसे तो इशारों में बात हो जाये।

बड़े शरीफ हैं हम अपने मोहल्ले में
तमन्ना है कि गली में उनके बदनाम हो जायें।

 
2 Comments

Posted by on February 5, 2021 in love, poetry

 
 
%d bloggers like this: